Manthan Ka Sagar (मंथन का सागर)

Sanjeev Sanyal
Shuchita Mital
9789387894488
IBD (Distributor)
इतिहास
इस महत्वाकांक्षी पुस्तक में, बैस्टसेलिंग लेखक संजीव सान्याल ने अंगकोर वाट और विजयनगर, मध्ययुगीन अरब साम्राज्यों और चीन के खजाना बेडे का समृद्ध, सजीव विवरण देते हुए पूर्वी अफ्रीका से लेकर ऑस्ट्रेलिया तक के युग-युगांतरकारी इतिहास को क्रमबद्ध किया है।

More details

Rs.315/-

M.R.P.: Rs.350

You Save: 10% OFF

आप नए साक्ष्यों के साथ दूर-दराज स्थित पुरातात्विक स्थलों, समुद्र-व्यापार नेटवर्कों और कुछ भूली-बिसरी मौखिक कहानियों को खंगालते हुए पूर्वस्थापित ऐतिहासिक कथानकों को चुनौती देते हैं।
  • AuthorSanjeev Sanyal
  • TranslatorShuchita Mital
  • Edition2018
  • Pages254
  • Weight (in Kg)0.36
  • LanguageHindi
  • BindingPaperback

No customer reviews for the moment.

Write a review

Manthan Ka Sagar (मंथन का सागर)

Manthan Ka Sagar (मंथन का सागर)

इस महत्वाकांक्षी पुस्तक में, बैस्टसेलिंग लेखक संजीव सान्याल ने अंगकोर वाट और विजयनगर, मध्ययुगीन अरब साम्राज्यों और चीन के खजाना बेडे का समृद्ध, सजीव विवरण देते हुए पूर्वी अफ्रीका से लेकर ऑस्ट्रेलिया तक के युग-युगांतरकारी इतिहास को क्रमबद्ध किया है।

Related Products