Godan (गोदान)

Premchand
-
9789384625535
हिन्दी के सर्वोत्तम साहित्यकारों में से एक उपन्यास सम्राट मुंशी प्रेमचंद द्वारा लिखा गया गोदान हिन्दी के ही नहीं वरन संसार की किसी भी भाषा के सबसे अच्छे उपन्यासों में से एक माना जाता है। तत्कालीन भारत की सामाजिक, राजनैतिक एवं आर्थिक परिस्थितियों को एवम उस समय के गरीबों पर हो रहे शोषण को उजागर करने वाला ये उपन्यास मुंशी प्रेमचंद का अंतिम पूर्ण उपन्यास है।

Rs.225/-

M.R.P.: Rs.250

You Save: 10% OFF

Quantity:

Online only

Warning: Last items in stock!

हिन्दी के सर्वोत्तम साहित्यकारों में से एक उपन्यास सम्राट मुंशी प्रेमचंद द्वारा लिखा गया गोदान हिन्दी के ही नहीं वरन संसार की किसी भी भाषा के सबसे अच्छे उपन्यासों में से एक माना जाता है। तत्कालीन भारत की सामाजिक, राजनैतिक एवं आर्थिक परिस्थितियों को एवम उस समय के गरीबों पर हो रहे शोषण को उजागर करने वाला ये उपन्यास मुंशी प्रेमचंद का अंतिम पूर्ण उपन्यास है।
AuthorPremchand
Translator-
Edition1st/2016
Pages490
Weight (in Kg)0.36 Kg
LanguageHindi
BindingPaperback

No customer comments for the moment.

Write a review

Godan (गोदान)

Godan (गोदान)

हिन्दी के सर्वोत्तम साहित्यकारों में से एक उपन्यास सम्राट मुंशी प्रेमचंद द्वारा लिखा गया गोदान हिन्दी के ही नहीं वरन संसार की किसी भी भाषा के सबसे अच्छे उपन्यासों में से एक माना जाता है। तत्कालीन भारत की सामाजिक, राजनैतिक एवं आर्थिक परिस्थितियों को एवम उस समय के गरीबों पर हो रहे शोषण को उजागर करने वाला ये उपन्यास मुंशी प्रेमचंद का अंतिम पूर्ण उपन्यास है।

Write a review

Related Products